दिल की बात

Just another weblog

52 Posts

98 comments

Reader Blogs are not moderated, Jagran is not responsible for the views, opinions and content posted by the readers.
blogid : 7644 postid : 69

हर शहर में हो लाइसेंस शुदा वेश्याल्य.... ?

Posted On: 15 Mar, 2012 में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

प्रदीप तमतमाता हुआ आया और धम से कुर्सी पर बैठते हुए बोला – “साला मेरा बस चले तो मैं हर शहर में लाइसेंस शुदा वेश्याल्य खुलवा दूं….. और उससे जो कमाई हो उसमे से पुलिस वालों को तनख़्वाह दूं, उनको भी पता चले कि उनकी तनख़्वाह कहाँ से आ रही है?”

विजय – “अरे सरेआम ये क्या कह रहे हो? तुम्हारी इस बात का किसी महिला संगठन को पता चल गया तो तुम्हारी लेनी कर देंगे और पुलिस तुम्हारी खाल खीच लेगी|”

प्रदीप – “सही कह रहा हूँ ….. अभी अभी एक लड़की को कुछ लड़के वैन में ज़बरदस्ती डाल कर ले गये, कल मिलेगी उसकी बॉडी किसी खेत में पड़ी हुई| हद तो ये हो गयी कि पुलिस पी.सी.आर. पास ही में खड़ी थी, इस मंज़र को देख कर पुलिसवालो ने मूह फेर लिया|”

विजय – “इतना गुस्सा ठीक नही! तुम अहिंसा के पुजारी देश के अच्छे नागरिक हो, जहाँ औरतों की पूजा होती है, इस देश की पुलिस और क़ानून बहुत मजबूत है|”

प्रदीप – “हाँ बहुत ही मुस्तैद और मजबूत पुलिस है तभी तो गुंडातत्व सारेआम लोगो की पिटाई करते हैं, बहू-बेटियों को उनके सामने से उठा ले जाते हैं और ये मौन तमाशा देखते रहते हैं| आज हमारी बहू-बेटी बाज़ार, स्कूल-कालेज, नोकरी आदि कही पर भी सुरक्षित नही हैं| दिन-प्रतिदिन बलात्कार की घटनाए बढ़ती जा रही हैं|”

विजय – “हाँ अपराध तो बढ़ रहे हैं …. किंतु जो समाधान बतला रहे हो वो उचित नही लगता|”

प्रदीप – “यदि हर शहर में लाइसेंस शुदा वेश्याल्य खुल जायगा तो बहुत हद तक ऐसे हादसों पर लगाम लग जाएगी| जिसका दिल करेगा वहाँ पर पैसा देगा और अपना काम निकाल आएगा|”

विजय – “कॉल गर्ल्स का धन्दा तो चल ही रहा हैं| … खबरें नही देखते, पुलिस कितनी मुस्तैद है जगह-जगह छापे मार-मार कर दलाल और कॉल गर्ल्स पकड़ती है|”

प्रदीप – “यदि लाइसेंस शुदा वेश्याल्य खुल जाए तो ऐसी नौबत ही ना आए…. और कितने लोग जानते हैं कॉल गर्ल्स को….. सब कॉन्टेक्ट से होता है| जिनको मालूम ही नही वो तो ऐसे ही मासूम बालकों/बच्चियों, लड़कियों, औरतो को उठा उठा कर उनकी जिंदगी बर्बाद करते हैं और अपने को अपराधी बना लेते हैं| अगर शराब के ठेकों की भाँति हर शहर में वेश्याल्य को भी सरकरी मंज़ूरी मिल जाए तो सरकार की आमदनी भी बढ़ेगी और अपराध भी कम होंगे|”

विजय – “कैसे होंगे अपराध कम… कैसे बढ़ेगी सरकार की आमदनी?”

प्रदीप – “जैसे किसी का शराब पीने का दिल होता तो वो ठेके पर जाकर शराब खरीद कर पी लेते है उसी प्रकार से किसी को जिस्मानी भूख लगेगी तो वेश्याल्य पर जाकर पैसा दे अपनी भूख शांत कर लेगा| जब वेश्याल्य में आसानी से उसकी भूख शांत होगी तो वो क्यू अपने को बलात्कार जैसे अपराध की और धकेलेगा?… जैसे शराब पर टेक्स है उसी प्रकार से वेश्याल्य पर भी टेक्स लगेगा तो आमदनी बढ़ेगी ….”

विजय – “वेश्याल्य खुलने से समाज में गंदगी फैलेगी|”

प्रदीप – “सम्लेंगिकता….. और स्लॅटवाक से गंदगी नही फैलेगी?…….

विजय – “छोड़ो भी अब …. हर शहर में लाइसेंस शुदा वेश्याल्य खुल जाए तो क्या होगा? इस पर पाठको के विचार आने दो ….”



Tags:

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 4.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

6 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

dineshaastik के द्वारा
March 15, 2012

विजय जी मुझे लगता है कि हमारे भारतीय समाज में न तो यह संभव है और न ही् उचित।

    vijaybalyan के द्वारा
    March 16, 2012

    Dinesh Aastik ji, prnam! gye cultur, slat walk ki parvi hoti hai hamare samaj mein kya ye uchit hai….? haroj balatkar … ladkiyon ko jabran uthalena aur unka yovan shoshan kar katl kar dena ya unki zindgi barbad karna kahan tak uchit hai …?

Tamanna के द्वारा
March 15, 2012

विजय जी… आप कैसे कह सकते हैं कि अगर वेश्यावृति को कानूनी मान्यता मिल गई तो महिलाओं पर होने वाले अत्याचरों में कमी आ जाएगी??? क्यों आप कुछ महिलाओं को बचाने के लिए अन्य महिलाओं को वेश्यावृति में ढकेल रहे हैं. अभी अगर कोई लड़की जबरन इस दलदल में ढकेली जाती है तो उसे पुलिसिया कार्यवाही के बाद छुड़ाया जा सकता है, लेकिन अगर इसके लिए भी लाइसेंस मिल जाएगा तो पुलिस, जो अभी भी कुछ नहीं करती, बाद में तो बिलकुल असहाय हो जाएगी… आप पुरुष के चरित्र पर प्रश्न चिंह क्यों नहीं उठातें ? http://tamanna.jagranjunction.com/2012/03/14/congress-vs-samajwadi-party/

    vijaybalyan के द्वारा
    March 15, 2012

    Tamanna ji, prnam! bahut hi gambhir vishay hai ye …. bura na manna kya ab ye sab nahi ho raha….. aaj jitni jabardasti aurton ke saath ho rahi hai kya aap usko jyaj tahrati hain….. kitni hi ladkiyan/aurte aaj bhi gandi galiyon mein chal rahe kotho mein ghut ghut kar ji rahi hain…. aur kitni hi sharif ladkiyon ko gandi mansikta ke chalte log unko jabardasti utha kar unki jindgi barbad karte hain ….. kuch had tak to is karm se aise ghinoni vrati par rok lag hi sakti hai (aapko ya kishi bhi mata bahan ko bura lago ho to kshma chahunga ….)

    Tamanna के द्वारा
    March 17, 2012

    विजय जी.. अगर लाइसेंस बन जाएगा तो क्या आप इन सब चीजों पर लगाम लगा सकते हैं,…? मुझे लगता है लाइसेंस उसके लिए बनता है जो चीज वैध होती है.. जब इसे वैध घोषित कर दिया जाएगा तो इससे वे महिलाएं अपना मूंह भी नहीं खोल पाएंगी जिन्हें वहशी दरिंदे मजबूरन इस अमानवीय व्यापार में ढकेल देते हैं…. लाइसेंस बनने के बाद वेश्या की बेटी को भी वेश्या बनने के लिए मजबूर किया जाएगा..!! समाज कहां चला जाएगा इसका अनुमान भी नहीं लगाया जा सकता…!! अभी तो फिर भी थोड़ा बहुत डर है (पुलिस का ना सही समाज का) बाद में सब हमारी आंखों के सामने होगा..!!

vijaybalyan के द्वारा
March 17, 2012

Tamanna ji, prnam! jabardasti, aphran, choti bachhiyon se balatkar adi adi par bahut had tak lagam lag sakti hai….. jab koi chij hamko nahi milti to usko chin kar hansil kiya jata hai ya uski ichha jyada hoti hai…. jab samne khuli milti ho to usko pane ki ichha bhi nahi hoti (tark deta hun shyad aapko galat lage …… bahut pahle pyaj bahut mehange ho gaya tha bjp ke shashan mein to un dino jo log pyaj khate bhi nahi the vo bhi pyaj khojte firte the khane ko…. pyaj ko gift ghi kiya jata tha) lisence banne se bahut had tak vishyavrati karne vali bahno ki bhi halat sudhregi ….. pulis unko faltu mein tang nahi kar sakegi ….. unko chiktsa suvidha adi adi mil sakenge ……… bura na manna aaj bhi kitni hi ladkiyan apni marji se kalgarl ka dhanda karti hain chori chupe se……


topic of the week



latest from jagran